जैसलमेर बाड़मेर दोनों जिलों कि सरहद में सबसे बड़े शिकार गिरोह का पर्दाफाश, 800 चिंकारों को मौत के घाट उतार कर बेच दिया। - Bishnoi News

चिंकारों का शिकार कर मांस का सप्लाई करने वाला आदतन शिकारी वन विभाग की गिरफ्त में।

जैसलमेर बाड़मेर दोनों जिलों कि सरहद में सबसे बड़े शिकार गिरोह का पर्दाफाश, 800 चिंकारों को मौत के घाट उतार कर बेच दिया।

सात माह से था फरार,फलसूंड चौराहा जैसलमेर से आया पकड़ में
 राजस्थान बिश्नोई समाचार बाड़मेर जिले में वन विभाग की बायतु रेंज के हिरा कि ढाणी सरहद में एक शिकार मामले में 7 माह से फरार सैकड़ों चिकारो का शिकारी वन विभाग और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में पकड़ा गया है। सोमवार को शिकारी को कोर्ट में पेश किया गया जहां न्यायालय द्वारा तीन दिन का पीसी रिमांड पर वन विभाग को सौंप दिया। वन विभाग टीम द्वारा पूछताछ जारी है शिकारी चिंकारे के मांस का सप्लाई कर व्यापार करता है दर्जनों शिकारी बाड़मेर-जैसलमेर जिले में इसके सहयोगी है।वन विभाग शिव रेंज के क्षेत्रीय वन अधिकारी मक्खनलाल शर्मा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी है कि जिले की बायतु रेंज में 4 मार्च 2021 को हिरा कि ढाणी सरहद में सुनसान रोही में शिकार का मामला 06/ 17 दर्ज हुआ था जिसका अभियुक्त वीराराम उर्फ बीरमा पुत्र चुतराराम भील निवासी फलसूंड जिला जैसलमेर 7 माह से फरार चल रहा था। फलसूंड थाने के थाना अधिकारी भंवरलाल बिश्नोई और शिव रेंज के रेंजर मक्खनलाल शर्मा ने संयुक्त रूप से कार्यवाही करते हुए अपनी टीम के साथ अभियुक्त को गिरफ्तार करने की कार्यवाही की जिसमें उन्हें सफलता मिली है।  रेंजर शर्मा ने बताया कि उनके साथ वनपाल दुर्गाराम चौधरी,सुरेश शर्मा सहायक वनपाल रजनी,दयाराम वनरक्षक रूपाराम बिशनाराम शामिल है तथा फलसूंड के थानाधिकारी भंवरलाल विश्नोई और उनकी टीम भी अथक प्रयासों के साथ लगी हुई है।क्षेत्रीय वन अधिकारी ने बताया कि अभियुक्त आदतन शिकारी है जो लंबे समय से शिकार करके मांस का व्यापार करता रहा है।उस पर दर्जनों मुकदमें दर्ज है।उन विभिन्न प्रकरणों में फरार चल रहा था तथा बायतु के एक सात महीनों पुराने प्रकरण में फरार होने के कारण उन्होंने कार्यवाही की है । गिरफ्तार करने के बाद अभियुक्त ने पूछताछ में कबूल किया है कि उसने लगभग 800 चिंकारों को मारकर बेच दिया है।शिकार किया है उनका मांस पकाकर तथा कच्चा भी दोनों जिलों में बड़ी होटलों में बेचता है दर्जनों शिकारियों के साथ मिलकर वह हमेशा शिकार करता आया है।  उसने जिन साथी शिकारियों के नाम उगले हैं।उसकी निशानदेही पर कार्यवाही जारी है दर्जनों आरोपियों की तलाश की जाएगी और उन्हे भी गिरफ्तार किया जाएगा।जिन होटलों में मांस बेचता था उनके भी नाम उजागर करने से एक बहुत बड़े शिकारी गिरोह का पर्दाफाश हुआ है उन सब पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी उन्होनें बताया कि थाना अधिकारी के साथ मिलकर वन विभाग की टीम शिकार की घटनाओं पर रोक लगाने के प्रयास कर रही है।श्री जंभेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा प्रदेश संस्था राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष रामरतन बिश्नोई ने शिव रेंज के क्षेत्रीय वन अधिकारी मक्खनलाल शर्मा की टीम तथा फलसूंड के थानाधिकारी भंवरलाल बिश्नोई की टीम का तहेदिल से आभार ज्ञापित किया है।प्रदेश अध्यक्ष ने कहा है कि शिकारी पकड़े जाते हैं मगर आदतन शिकारियों द्वारा किए गए व्यापार का पर्दाफाश नहीं होना वन्यजीव प्रेमियों के लिए हमेशा दुखदाई और अफसोस भरा रहता है । 

इनका कहना है
*पुलिस ओर वन विभाग के जुझारू दोनों अधिकारियों ने एक बहुत बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है जिसमें आदतन अभियुक्त ने सैकड़ों चिंकारों को मार कर बेचना कबूल किया है इससे यह शिकारियों में संदेश जाएगा कि वन्यजीवों का मास बेचकर व्यापार करने वाले लोग अब नहीं बच पाएंगे। यह वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक बहुत बड़ी राहत की खबर है इसके लिए दोनों अधिकारी धन्यवाद के और सम्मान के पात्र हैं*
भंवरलाल भादू जम्भेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा प्रदेश संस्था मीडिया प्रभारी बाड़मेर जैसलमेर

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
Top